Follow

दिल में हसरतें लिए बैठा हूँ, फ़ासलों से ख़फ़ा हूँ में
यादें तेरे दो पल कि, फ़ाक़ा-ए-दिल मुतमइन करती हैं

Sign in to participate in the conversation
ChowChow Social

An instance to discuss about food/art/culture/relationships/poetry/books/lgbtq+/feminism.